ओबामा एक बाम हैं, जो अमेरिका के दर्द करते अहंकार पर मले जाते हैं, लेकिन दर्द है कि जाता नहीं।

25/03/2004 00:44

ओबामा बाम
ओबामा क्या हैं? ओबामा वे हैं, जो बुश नहीं हैं। ओबामा वे हैं, जो चाहकर भी बुश होने से बच नहीं सकते।
ओबामा क्या हैं? ओबामा वे हैं, जो क्लिंटन नहीं हैं। वे चाहकर भी, क्लिंटन होने से बच नहीं सकते।
ओबामा क्या हैं? ओबामा वे हैं, जो गांधीजी के प्रेमी हैं। वे चाहकर भी, महात्मा गांधी को इराक की फ्रेम में फिट नहीं कर सकते। गांधी के भारत की आउटसोर्सिंग से डरते हैं।
ओबामा एक बाम हैं, जो अमेरिका के दर्द करते अहंकार पर मले जाते हैं, लेकिन दर्द है कि जाता नहीं।

पुरानी फिल्म
आदमी को पुरानी फिल्में अच्छी लगती हैं, क्योंकि उसे लगता है कि तब मर्यादाएं और मूल्य गजब के थे।
तब भी पिताओं से झूठ बोलकर बच्चे फिल्म देखने जाते थे। तब भी कहा जाता था कि फिल्में बच्चों को बिगाड़ रही हैं। तब भी गीत गलियों में छेड़खानी के काम आते थे।
तब हीरो, गांव से हीरोइन को लेकर शहर जाता था। हीरोइन नामी हो जाती थी, हीरो गांव लौट आता था। पर हीरोइन भी पता चलते ही सब छोड़कर गांव लौट आती थी। दोनों मिलकर दर्द भरा गीत गाते थे।
अब हीरोइन और हीरो के बीच एक और ‘आइटम बम’ है, जो किसी कंपनी का बाम हो जाती है।

पांच सितारा होटल
पांच सितारा होटल ऊंचाई का पैमाना है। जो वहां जाता है, वह बड़ा हो जाता है। जो बड़ा होता है, वह पांच सितारा हो जाता है।
पांच सितारा में आतंकवादी घुसते हैं, देश को हिला देते हैं।
पांच सितारा में ओबामा जाते हैं, देश धन्य हो जाता है।
एक भिखारी ने दूसरे को सौ रुपये दिए और बाद में दूसरे ने पहले को बताया, मैं सौ रुपये में पांच सितारा होटल में खा आया।
पहले ने हैरत से कहा, वहां सौ की तो कॉफी भी नहीं मिलती।
दूसरे ने बताया, मैंने तबियत से खाया। बिल छह हजार आया। मैंने कहा, मैं नहीं दे सकता। उन्होंने पुलिसवाला बुलाया। मैंने पुलिस वाले से कोने में बात की। उसने सौ का नोट लेकर मुझे छोड़ दिया।
पांच सितारा में भी पुलिस मूल्य बनाए रखती है। पुलिस ऐसा बाम है, जो हिंदुस्तान में ओबामा से ज्यादा काम आता है।

और अंत में
हम खुश हैं कि ओबामा पाकिस्तान नहीं जाएंगे। पाकिस्तान खुश है कि ओबामा भारत में बैठकर उसकी पीठ में बाम लगाएंगे।
-फरीदाबाद से सुरुचि ने भेजा


© 2011All rights reserved for Dwarkeshvyas