नीतीश की लालू को पछाड़, कांग्रेस का सूपड़ा साफ ( नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले जनता दल (यूनाइटेड) भारतीय जनता पार्टी गठबंधन को विधानसभा चुनाव में तीन चौथाई बहुमत )

24/11/2010 20:54

 बिहार में विकास की प्रबल जनाकांक्षा ने जाति और धर्म की बाड़ को काफी हद तक तोड़ दिया और नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले जनता दल (यूनाइटेड) भारतीय जनता पार्टी गठबंधन को विधानसभा चुनाव में तीन चौथाई बहुमत मिलता दिखाई पड़ रहा है। अब तक घोषित परिणामों में से 175 सीटें गठबंधन के पक्ष मे जा चुकी हैं और करीब 40 पर आगे है। पिछले चुनावों में उसे राज्य की 243 में से 143 सीटें मिली थीं।


लालू प्रसाद के राष्ट्रीय जनता दल और उनके गठबंधन सहयोगी रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी की सीटें पहले के 64 की तुलना में आधी भी बचती हुई नजर नहीं आ रही। अपना सूपड़ा साफ करने वाले इन चुनाव परिणामों को राजग-लोजपा गठबंधन ने रहस्यमयी बताते हुए संशय खड़ा किया है। राजद-लोजपा गठबंधन के कई धुरंधर चुनावी समर में धराशायी हुए। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी सोनपुर और राघोपुर दोनों सीटों से हार गई हैं। पासवान के भाई रामचंद्र पासवान कुशेश्वरस्थान क्षेत्र से पांच हजार से ज्यादा मतों से परास्त हुए।

अब तक के नतीजों के अनुसार सत्तारूढ़ राजग ने विपक्षी दलों को हाशिए पर धकेल दिया है और प्रमुख प्रतिद्वंद्वी राजद लोजपा गठबंधन को सिर्फ 18 सीटें मिली हैं तथा नौ अन्य सीटों पर उसके उम्मीदवार आगे चल रहे हैं। राजद लोजपा गठबंधन को पिछली बार 64 सीटें थीं। कांग्रेस के लिए भी चुनावों में जोरदार लगा है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, संप्रग और कांगे्रस अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं महासचिव राहुल गांधी के प्रयासों के बावजूद उसे पिछली बार नौ सीटों की तुलना में अब तक सिर्फ चार सीटों पर ही जीत मिली है और एक पर वह आगे है। यहां तक कि कांगे्रस के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी महबूब अली कैसर सिमरी बख्तियारपुर से 18 हजार से ज्यादा मतों से मात खा गये। भाकपा को एक सीट पर विजयश्री नसीब हुई है

 


© 2011All rights reserved for Dwarkeshvyas